इंदौर मध्‍यप्रदेश

शहर में 21 महीने में 49,154 लोगों को शिकार बनाया श्वानों ने

  • नसबंदी पर करोड़ों रुपए खर्च करने के बाद भी लगातार बढ़ रही है श्वानों की संख्या
  • वर्ष 2020 में 27 हजार 647 तो इस साल अब तक 21 हजार 507 लोगों को शिकार बनाया

इंदौर। श्वानों की नसबंदी पर करोड़ों रुपए खर्च करने के बावजूद शहर (City) में श्वानों की संख्या लगातार बढ़ती जा रही है। इस साल जनवरी से लेकर इस महीने 13 सितंबर तक श्वान 21,000 से ज्यादा रहवासियों (residents) को अपना शिकार बना चुके हैं। वहीं पिछले साल 2020 में लॉकडाउन (Lockdown) के दौरान 27,000 से ज्यादा लोग शिकार बन चुके हैं।

यह खुलासा लगभग 21 महीनों में श्वानों के शिकार हुए 49,154 इंदौरवासियों को सरकारी (Government) अस्पताल (Hospital) में लगाए गए 2 लाख 45 हजार 770 रैबीज के इंजेक्शन के आंकड़ों से सामने आया है। डॉक्टरों (Doctor)  के अनुसार श्वानों के शिकार हर व्यक्ति को 1 महीने में 5 इंजेक्शन लगाए गए हैं।

लॉकडाउन में भी श्वानों का शिकार बने 
सरकारी अस्पताल (GovernmentHospital) के रिकॉर्ड के अनुसार पिछले साल 2020 में 1 जनवरी से लेकर 31 दिसंबर तक, यानी 12 महीनों में 27,647 लोगों को श्वानों ने शिकार बनाया। हैरानी की बात तो यह है कि पिछले साल कोरोना संक्रमण के कहर से बचने के सारे शहर में अधिकांश समय कोरोना कफ्र्यू व लॉकडाउन का दौर चल रहा था। इसके बाद भी इतने लोग श्वानों का शिकार कैसे बनें, यह सबसे बड़ा सवाल है।

इस साल अभी तक 21 हजार से ज्यादा
पिछले साल 12 महीनों में जहां 27 हजार 647 लोग श्वानों का शिकार बने थे, वहीं इस साल 1 जनवरी से लेकर 13 सितंबर, यानी 8 महीने 13 दिनों में 21 हजार 507 लोगों को शिकार बना चुके हैं।

इन क्षेत्रों में श्वानों के ज्यादा शिकार
शहर में जिन इलाकों में श्वानों ने सबसे ज्यादा लोगों का शिकार किया, उनमें चंदन नगर, आजाद नगर, खजराना, एमआर-10, मूसाखेड़ी, बाणगंगा, द्वारकापुरी, पालदा इलाके की बस्तियां शामिल हैं।

नसबंदी पर करोड़ों खर्च
इंदौर नगर निगम (indore Muncipal Corporation) को भले यह जानकारी नहीं है कि शहर में आवारा श्वानों की संख्या कितनी है, मगर उसका दावा है कि इंदौर में 1 लाख 6 हजार कुत्तों की नसबंदी पर 7 करोड़ 46 लाख रुपए खर्च हो चुके हैं। यह जानकारी विधानसभा में पूछे गए सवाल के जवाब में दी गई थी।

लगभग 21 महीनों में 49,151 श्वानों के शिकार पीडि़तों को 2,45,770 रैबीज के इंजेक्शन लगाए जा चुके हैं।
डॉक्टर आशुतोष शर्मा, लाल अस्पताल, एमटीएच, इंदौर

पिछले साल हर महीने इतने शिकार
जनवरी से दिसंबर 2020
जनवरी 3636
फरवरी 3202
मार्च 2779
अप्रैल 1144
मई 1340
जून 2020
जुलाई 1977
अगस्त 1813
सितंबर 2150
अक्टूबर 2189
नवंबर 2313
दिसंबर 3184
कुल 27,647

1 जनवरी से सितंबर 21
जनवरी 3331
फरवरी 3116
मार्च 3025
अप्रैल 1888
मई 1684
जून 2241
जुलाई 2501
अगस्त 2598
सितंबर 923
कुल 21507

Share:

Next Post

कांग्रेस ने शुरू की नई व्यवस्था,पहले 11 हजार रुपए का शुल्क भरें फिर मांगें टिकट

Wed Sep 15 , 2021
लखनऊ।  उद्योगपतियों (Industrialists) व अन्य चंदा (donations) देने वाली संस्थाओं (institutions) द्वारा कांग्रेस (congress) से मुंह मोडऩे के बाद कांग्रेस (congress)  की माली हालत खस्ता है। इसको देखते हुए उत्तरप्रदेश कांग्रेस (Uttar Pradesh Congress) ने अब विधानसभा चुनाव (assembly elections) में टिकट (ticket) के लिए आवेदन करने वाले लोगों से 11-11 हजार रुपए की मदद […]