बड़ी खबर

सावधान: कई देशों ने इस वैक्सीन पर लगाई रोक, विशेषज्ञों से जानिए कितना सुरक्षित है इसका टीकाकरण?

नई दिल्ली। देश में कोरोना संक्रमण को काबू करने के लिए वैक्सीनेशन अभियान को तेज कर दिया गया है। भारत में फिलहाल तीन वैक्सीन- कोविशील्ड, कोवैक्सीन और स्पूतनिक उपलब्ध हैं। ऑक्सफ़ोर्ड-एस्ट्राजेनेका वैक्सीन (कोविशील्ड) को सबसे ज्यादा प्रयोग में लाया जा रहा है। इस बीच यह वैक्सीन विवादों में घिरती नजर आ रही है। कई देशों ने इसके उपयोग पर फिलहाल रोक भी लगा दिया है। इन खबरों ने लोगों के मन में एक विशेष प्रकार के डर की स्थिति बना दी है। असल में हाल ही में एक अध्ययन में वैज्ञानिकों ने पाया कि कोविशील्ड वैक्सीन लगवाने के बाद कुछ लोगों में रक्त के थक्के बनने और रक्तस्राव के मामले देखने को मिले हैं। हालांकि ऐसे लोगों की संख्या काफी कम है।

इन देशों ने इस्तेमाल पर लगाई रोक
मीडिया रिपोर्टस के मुताबिक दुष्प्रभाव के मामले सामने आने के बाद कई देशों ने फिलहाल कोविशील्ड वैक्सीन के इस्तेमाल पर रोक लगा दिया है। जिन देशों ने कोविशील्ड वैक्सीन के उपयोग पर रोक लगाने के साथ इसे जांच के तहत रखा है उनमें ऑस्ट्रिया, नॉर्वे, आइसलैंड, बुल्गारिया, नीदरलैंड, फ्रांस, जर्मनी, इटली, स्पेन, स्वीडन और थाईलैंड जैसे देश शामिल हैं। कनाडा के कई प्रांतों ने भी इसी तरह की चिंताओं को लेकर एस्ट्राजेनेका के टीकों का इस्तेमाल फिलहाल रोकने का फैसला किया है।

कोविशील्ड वैक्सीन को लेकर हंगामा क्यों?
ब्रिटेन स्थित यूनिवर्सिटी ऑफ एडिनबर्ग के अनुसंधानकर्ताओं के नेतृत्व में हुए अध्ययन में पाया गया कि ऑक्सफोर्ड-एस्ट्राजेनेका वैक्सीन के कारण रक्त में प्लेटलेट की कमी हो सकती है। वैज्ञानिकों के मुताबिक कोविशील्ड वैक्सीन के कारण ऐसे मामले जरूर सामने आए हैं, हालांकि इसकी संख्या बहुत ही कम है। यह अध्ययन जर्नल नेचर मेडिसिन में प्रकाशित हुआ है। आंकड़ों के मुताबिक यह स्थिति प्रति 10 लाख खुराक में करीब 11 लोगों में हो सकती है।  65 से 70 साल की आयु वाले लोगों (जिन्हें पहले से ही दिल की बीमारी, मधुमेह या किडनी की बीमारी) में इसका खतरा अधिक देखने को मिला है। 

कितनी सुरक्षित है कोविशील्ड वैक्सीन?
इस तरह के रिपोर्ट सामने आने के बाद सुरक्षात्मक स्तर से वैक्सीन की प्रभाविकता को लेकर लोगों में मन में डर देखा जा रहा है। इस बारे में ज्यादा जानकारी के लिए अमर उजाला ने डॉ विक्रमजीत सिंह (डिपार्टमेंट ऑफ इंटरनेल मेडिसिन) से बातचीत की। डॉ विक्रमजीत बताते हैं कि फिलहाल यह अध्ययन यूरोपीय देशों में हुआ है और इसके आंकड़े भी काफी कम हैं। इस छोटे से आंकड़े के आधार पर किसी भी वैक्सीन की प्रभाविकता या उससे होने वाले साइड-इफेक्ट्स का निर्धारण नहीं किया जा सकता है। इस तरह की रिपोर्ट पर ध्यान न देते हुए सभी लोगों को वैक्सीन जरूर लगवानी चाहिए। संभावित तीसरी लहर से बचाने में वैक्सीनेशन को ही सबसे प्रभावी उपाय माना जा सकता है।

वैक्सीन से डरने की जरूरत बिल्कुल नहीं
इंदौर में कोविड ट्रैकिंग प्रभारी डॉ अनिल डोंगरे बताते हैं कि हाल ही में हुए अध्ययनों में वैज्ञानिकों ने ऑक्सफोर्ड/एस्ट्राजेनेका टीके की दो खुराक की प्रभाविकता 85-90 प्रतिशत के करीब देखी है। ऐसे में यह कहा जा सकता है कि कोविशील्ड वैक्सीन  काफी असरदार है। हालांकि इससे रक्त का थक्का बनने या प्लेटलेट की कमी के जो भी मामले सामने आए हैं, उनका आधार काफी सूक्ष्म है। लोगों को इससे डरने की आवश्यकता नहीं है, कोविशील्ड वैक्सीन को लगवाने में कोई भी झिझक न दिखाएं। 

Next Post

Share Market: रिकॉर्ड स्तर पर बंद हुआ बाजार, 52400 के पार सेंसेक्स, निफ्टी में भी उछाल

Fri Jun 11 , 2021
नई दिल्ली। उच्चतम स्तर पर खुलने के बाद आज सप्ताह के आखिरी कारोबारी दिन यानी शुक्रवार को शेयर बाजार हरे निशान पर बंद हुआ। बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज का प्रमुख इंडेक्स सेंसेक्स 174.29 अंकों (0.33 फीसदी) की तेजी के साथ 52474.76 के स्तर पर बंद हुआ। वहीं नेशनल स्टॉक एक्सचेंज का निफ्टी 61.60 अंक यानी 0.39 […]