देश भोपाल मध्‍यप्रदेश

मप्र में मिले कोरोना के दो नये मामले, पांच मरीज स्वस्थ हुए

भोपाल। मध्यप्रदेश (Madhya Pradesh) में बीते 24 घंटों के दौरान कोरोना के दो नये मामले (Two new cases of corona in the last 24 hours) सामने आये हैं, जबकि पांच मरीज कोरोना संक्रमण से मुक्त हुए हैं। इसके बाद राज्य में संक्रमितों की कुल संख्या 10 लाख 54 हजार 893 हो गई है। हालांकि, राहत की बात है कि राज्य में लगातार 22वें दिन कोरोना से कोई मौत नहीं हुई। यह जानकारी स्वास्थ्य विभाग द्वारा गुरुवार देर शाम जारी कोविड-19 बुलेटिन में दी गई। एक दिन पहले भी राज्य में कोरोना के दो नये संक्रमित मिले थे।

कोविड-19 बुलेटिन के अनुसार, आज प्रदेशभर में 2,631 सेम्पलों की जांच रिपोर्ट प्राप्त हुई। इनमें दो पॉजिटिव और 2,629 सेम्पल निगेटिव पाए गए, जबकि 18 सेम्पल रिजेक्ट हुए। पॉजिटिव प्रकरणों का प्रतिशत (संक्रमण की दर) 0.07 रहा। नये मामलों में भोपाल और उज्जैन जिले में 1-1 नये संक्रमित मिले हैं, जबकि राज्य के 50 जिलों में कोरोना के नये मामले शून्य रहे। राहत की बात है कि राज्य में आज कोरोना से कोई मौत नहीं हुई। यहां 22 दिन से मृतकों की कुल संख्या 10,776 पर स्थिर है।

प्रदेश में अब तक कुल तीन करोड़ 02 लाख 10 हजार 684 लोगों के सेम्पलों की जांच की गई। इनमें कुल 10,54,893 प्रकरण पाजिटिव पाए गए। इनमें 10,44,108 मरीज कोरोना संक्रमण से मुक्त होकर अपने घर पहुंच चुके हैं। इनमें से पांच मरीज गुरुवार को स्वस्थ हुए। अब यहां सक्रिय प्रकरणों की संख्या 12 से घटकर नौ रह गई। हालांकि, खुशी की बात यह भी है कि राज्य के 46 जिले पूरी तरह कोरोना संक्रमण से मुक्त हो चुके हैं। इन जिलों में अब कोरोना का एक भी सक्रिय मरीज नहीं है।

इधर, प्रदेश में 24 नवंबर को शाम छह बजे तक 1,111 लोगों का टीकाकरण किया गया। इसे मिलाकर राज्य में अब तक वैक्सीन के 13 करोड़, 35 लाख, 45 हजार, 454 डोज लगाई जा चुकी है। (एजेंसी, हि.स.)

Share:

Next Post

भोपाल में स्थापित होगी स्व. कैलाश जोशी की प्रतिमा : मुख्यमंत्री शिवराज

Fri Nov 25 , 2022
– कैलाश जी की स्मृति में चार शासकीय भवन का नामकरण, मुख्यमंत्री ने किया वर्चुअली लोकार्पण भोपाल। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान (Chief Minister Shivraj Singh Chouhan) ने कहा कि पूर्व मुख्यमंत्री स्व. कैलाश जोशी (Former Chief Minister Late. Kailash Joshi) ने सार्वजनिक जीवन में प्रतिमान गढ़ते हुए भारत माता के लिए जीवन समर्पित कर दिया। […]