आचंलिक

नगर सरकार बनाने के लिए 66.10% हुआ मतदान

  • सुबह से बूथों पर लगी लाइन, एक दो जगह हुई झड़पें

विदिशा। नगर सरकार बनाने के लिए 39 वार्र्डों के 153 मतदान केन्द्रों पर 149 प्रत्याशियों के भाग्य का फैसला ईवीएम में कैद हो गया है। नगरीय निकाय के पहले चरण में विदिशा नगर पालिका के लिए मतदान की प्रक्रिया आज सुबह 7 बजे प्रारंभ हुई। इसके पहले सुबह 6 बजे से 7 बजे तक मॉक पोल किया गया। फिलहाल किसी भी मतदान केंद्र पर ईवीएम की गड़बड़ी की कोई शिकायत नहीं मिली है। शाम 5 बजे के पूर्व लुहांगी शाला में ईवीएम शराब हो गई। जिससे दो घंटे तक मतदान रूका रहा। 5.45 बजे तक मशीन सुधारने का काम हुआ जब मशीन नहीं सुधरी तो नई ईवीएम बुलवाई गई। इस दौरान संपूर्ण प्रक्रिया में 7.15 मिनट तक व्यवधान के बाद वोट डले। कुछ केंद्रों पर सुबह से ही लंबी लंबी कतारें वोटिंग के लिए देखी गई। अधिकारी और सेक्टर मजिस्ट्रेट लगातार मतदान केंद्रों पर निगरानी रखे हुए थे। प्रशासनिक तौर पर प्रथम रूझान वोटिंग का 11 बजे प्राप्त हुआ था। जहां पर 30.54 प्रतिशत मतदान पहुंच गया था।

दोपहर तक मतदान का प्रतिशत बढऩे की उम्मीद में मतदाता जोश के साथ मतदान कर रहे थे। युवा जो पहली बार वोट डाल रहे थे काफी उत्साहित दिखाई दिए। वार्ड 12 में 105 पानबाई दुबे ने व्हील चेयर पर पहुंचकर वोट डाला। वहीं 80 वर्षीय उज्जवला भंडारी ने वार्ड 19 में वोट डाला। पोलिंग बूथों के बाहर प्रत्याशी अपने समर्थकों से वोट की अपील कर रहे थे। वहीं मौसम साफ होने के कारण लोगों ने मतदान में जमकर भाग लिया विदिशा शहर में 66.10 प्रतिशत मतदान शाम 5 बजे तक दर्ज किया गया है। कुल 1 लाख 32 हजार 830 मतदाताओं ने अपने मताधिकार का प्रयोग किया। जिनमें महिलाओं की संख्या 41 हजार 179 है। वहीं पुरूषों की संख्या 46 हजार 621 है। जिनमें 63.2 प्रतिशत महिला और 68.8 प्रतिशत पुरूष मतदाताओं ने वोट डाले हैं। इसके अलावा 3 अन्य लोगों ने भी वोट डाले हैं। कुछ केन्द्रों पर कतारे कुछ पर नहीं लगी लाइनें: विदिशा नगर पालिका के अंतर्गत 39 वार्डों के 153 मतदान केंद्रों पर सुबह 7 बजे से शुरू हुई वोटिंग में सुबह 7 बजे शुरू हुई। शहर के कुछ मतदान केन्द्रों पर लंबी-लंबी कतारे लगीं रहीं तो कुछ केन्द्र ऐसे थे जहां पर आसानी से वोटिंग हुई और इंतजार नहीं करना पड़ा। प्रशासन ने सुरक्षा के तगड़े इंतजार किए थे।

भिड़े दो दिग्गज, फटे कपड़े
वार्ड क्रमांक 25 में चुनावी सियासत को लेकर भाजपा और कांगे्रस के प्रत्याशी आपस में भिड़ गए। सूत्रों का कहना है कि कैलाश यादव कांग्रेस से प्रत्याशी थे। भाजपा की कंचन तीरथ दरबार प्रत्याशी थे। इंदिरा काम्पलेक्स में मतदान के दौरान कहा सूनी हो गई। मामला इतना बड़ा की एक दूसरे ने बाहें चढ़ा लीं और जमकर खींचातानी कर डाली।

प्रत्याशी की बहू पहुंची वोट डालने पता चला डल गया वोट
वार्ड क्रमांक 2 से कांग्रेस प्रत्याशी दुर्जन सिंह कुशवाह की बहू श्रीमती विमला बाई कुशवाह मतदान केन्द्र पर अपना वोट डालने पहुंची तो पता चला उनका कोई फर्जी वोट डाल गया। विवाद खड़ा हो गया। हंगामे को देख पीठासीन अधिकारी बगले झांकते नजर आए। काफी देर बाद निर्णय हुआ कि टेंडर वोट डलवाया।

Share:

Next Post

नगर सरकार बनाने प्रत्याशियों का भाग्य ईव्हीएम में बंद, मतगणना 17 जुलाई को

Thu Jul 7 , 2022
पुलिस और प्रशासन ने लिया सभी केन्द्रों का जायजा सीहोर। नगर पालिका के चुनाव लंबे समय बाद हुए। इस चुनाव को लेकर पिछले सात दिनों से शहर में काफी चहल पहल थी। सभी वार्डो में खड़े उ मीदवारों ने जमकर प्रचार प्रसार किया। मतदान के दिन भी सभी केन्द्रो पर उ मीदवार और उनके समर्थक […]

Leave a Reply

Your email address will not be published.