उज्‍जैन न्यूज़ (Ujjain News)

तहसीलों में मिले कोरोना मरीज, संक्रमण दर बढ़ी

  • सीमित जांच फिर भी रोज आने लगे कोरोना के नए मामले-ध्यान देने की जरूरत

उज्जैन। शहरी क्षेत्र के साथ-साथ अब पिछले एक सप्ताह से कोरोना के मरीज तहसीलों में भी मिलने लगे हैं। स्वास्थ्य विभाग अब तक 250 से कम सेंटरों पर जांच रोज कर रहा है। फिर भी कोरोना के 5 से 7 मरीज आए दिन सामने आ रहे हैं। कल भी उज्जैन समेत महिदपुर और तराना में मरीज मिले। उल्लेखनीय है कि कोरोना की चौथी लहर जून महीने तक 45 कोरोना के नए केस सामने आए थे। इसके बाद वर्तमान माह में भी कोरोना के मरीज लगातार सामने आते रहे। दो सप्ताह पहले तक कोरोना के मामले शहरी क्षेत्र से आ रहे थे। जिले की बाकी 5 तहसीलों में कोरोना संक्रमण नहीं पहुंचा था। लेकिन पिछले 15 दिनों में संक्रमण शहरी क्षेत्र के साथ-साथ तहसीलों तक बढऩे लगा। इसके पीछे कारण यह है कि बड़ी संख्या में ग्रामीण क्षेत्र के लोग किसी न किसी कारण से शहर आ रहे हैं और सावधानी नहीं रखने के कारण यहां से संक्रमित होकर गांव जा रहे हैं। कल रात में भी शहर सहित दो अन्य तहसीलों में एक-एक मरीज नया मिला है। इनमें उज्जैन में एक, महिदपुर में एक तथा तराना में एक मरीज पाया गया है।


संक्रमण दर में इजाफा, जांच हो रही कम
बीती रात 241 सेंपलों की जांच रिपोर्ट सार्वजनिक की गई। इसमें से 3 नए मामले सामने आ गए। कल पॉजीटिव आए मामलों का प्रतिशत 1.24 रहा। कोरोना की दूसरी और तीसरी लहर के दौरान रोजाना 1500 से 2000 तक सेंपलों की जांच हो रही थी। अभी तक चौथी लहर में 250 के लगभग सेंपल रोज जांचें जा रहे हैं। इसमें भी नए मरीज मिल रहे हैं। सेंपलों की जांच का दायरा अगर तीसरी लहर जितना कर दिया जाए तो आज भी औसतन 15 से 20 मरीज रोज सामने आ सकते हैं। चिकित्सकों का कहना है कि एक्टिव केस बढ़कर अब 30 तक पहुंच गए हैं।

Share:

Next Post

4 आरक्षित थे, 11 जिला पंचायतों में बन गए ओबीसी के अध्यक्ष

Sat Jul 30 , 2022
7 अनारक्षित सीटों पर बने अध्यक्ष भोपाल। प्रदेश में विवाद, खींचतान, खरीद-फरोख्त और प्रशासनिक पक्षपात के आरोपों के बीच आयोजित जिला पंचायत अध्यक्षों के चुनाव में 51 में से 11 जिलों में अन्य पिछड़ा वर्ग (ओबीसी)के अध्यक्ष बने हैं। हालांकि चुनाव से पहले पंचायत एवं ग्रामीण विकास विभाग द्वारा कराई गई आरक्षण प्रक्रिया में ओबीसी […]