जीवनशैली स्‍वास्‍थ्‍य

डायबिटीज के मरीजों को नाश्ते में नहीं खानी चाहिए ये चीजें, जानिए कैसा नाश्ता है सेहतमंद

डेस्‍क। ब्लड शुगर लेवल एक बार अनकंट्रोल हो गया तो इसे ठीक करना मुश्किल है हो सकता है। इ्ंसुलिन और ब्लड शुगर को कंट्रोल में रखकर ही डायबिटीज से होने वाले साइडइफेक्ट्स से बच सकते हैं। डायबिटीज के रोगियों को देर तक भूखा भी नहीं रहना चाहिए। इससे शरीर में ब्लड शुगर लेवल लो हो सकता है। ऐसे में सुबह के नाश्ता को स्किप नहीं करना चाहिए। नाश्ते में हमेशा हेल्‍दी चीजों का सेवन करना चाहिए। इससे शरीर को पर्याप्त एनर्जी मिलती है। कई लोगों को भ्रम होता है कि डायबिटीज के रोगियों को का खाना फीका होना चाहिए लेकिन बिल्कुल भी नहीं है। आज हम आपको बताएंगे कि डायबिटीज के मरीजों को नाश्ते में क्या खाना चाहिए और क्या नहीं?

किन चीजों से करें परहेज

  • डायबिटीज के मरीजों को नाश्ते के समय चाय या कॉफी नहीं पीनी चाहिए।
  • ताजे या पैक्ड जूस का सेवन बिल्कुल न करें।
  • आटे से बना ब्रेड न खाएं।
  • चॉकलेट्स, पेस्ट्रीज, प्रोसेस्ड फूड्स क्रोसिसेंट्स आदि मीठे चीजें से दूर रहें।

डायबिटीज के मरीज ब्रेकफास्ट में खाएं ये चीजें
जौ : जौ का सेवन करने से डायबिटीक रोगियों को फायदा हो सकता है। जौ में ओट्स के मुकाबले दोगुना प्रोटीन और आधी कैलोरी होती है इसलिए इसे ब्रेकफास्‍ट में खाना अच्‍छा माना जाता है। डाइट्री फाइबर से भरपूर जौ भूख को कंट्रोल करता है। दिल से जुड़ी बीमारियों के होने के खतरे को भी कम कर सकता है।

लो फैट दही : सुबह या फिर दोपहर के समय आप लो फैट दही खा सकते हैं। इसे खाने से इंसुलिन लेवल तुरंत नहीं बढ़ता है। इसमें प्रोटीन, कैल्‍शियम और अन्‍य पौष्‍टिक तत्‍व पाए जाते हैं। यह टाइप 2 डायबिटीज होने की संभावनाओं को भी काफी हद तक कम कर सकता है।

अंडे की भुर्जी और टोस्‍ट : अगर आपको सुबह के समय अंडा खाना पसंद है, तो ऑमलेटी की बजाय अंडे की भुर्जी खाएं। इसे आप टोस्ट के साथ खा सकते हैं। अंडे में प्रोटीन, विटामिन डी और फैट होता है, जो एनर्जी लेवल को हाई रखता है। इससे आपको भूख जल्दी नहीं लगती है। उबला हुआ अंडा भी खा सकते हैं।

फल और बादाम : बादाम खाने से टाइप-2 डायबिटीज के मरीजों में ग्‍लाइसीमिक कंट्रोल में रहता है। आप चाहें तो चार-पांच बादाम और कुछ मौसमी फलों का सेवन साथ में करें। इससे शरीर में एंटीऑक्‍सीडेंट और अन्‍य जरूरी पोषक तत्‍व पहुंचेंगे जो डायबिटीज को कंट्रोल करने में मददगार हो सकते हैं।

Next Post

प्राइवेट अस्पतालों को मई में मिली वैक्सीन की 1.29 करोड़ डोज, इस्तेमाल हुई सिर्फ 22 लाख

Sat Jun 12 , 2021
नई दिल्ली: एक तरफ देश कोरोना रोधी वैक्सीन की कमी से दो चार हो रहा है तो वहीं दूसरी सरकारी आंकड़ों से साफ हो रहा है कि प्राइवेट अस्पतालों के पास इसका अच्छा खासा स्टॉक मौजूद है. केंद्र सरकार के आंकड़ों के अनुसार पिछले महीने में प्राइवेट अस्पतालों में केवल 17 फीसदी खुराक का ही […]