इंदौर न्यूज़ (Indore News) मध्‍यप्रदेश

अगले साल से रंगपंचमी गेर की ब्रांडिंग महीनों पहले हो जाएगी शुरू

  • बीते कुछ सालों से यूनेस्को की सूची में गेर को शामिल कराने की चल रही है कवायद,
  • इस बार कुछ देसी-विदेशी पर्यटकों को दिखाई थी गेर

इंदौर। रंगपंचमी (Rangpanchami) पर निकलने वाली इंदौर (Indore) की पारम्पिक, ऐतिहासिक और अनूठी गेर (Gair) को यूनेस्को (UNESCO) की सूची में सांस्कृतिक धरोहर (Cultural heritage) के रूप में दर्ज करवाने की प्रक्रिया विगत कुछ सालों से चल रही है और उम्मीद है कि अगले साल (next year) इसे यह दर्जा मिल जाएगा। इस साल प्रशासन ने कुछ देसी-विदेशी पर्यटकों को गेर दिखाने का इंतजाम भी किया था और पहली बार मुख्यमंत्री भी इस गेर में शामिल होने इंदौर आए और उन्होंने भी गेर का खूब आनंद लिया और कहा कि सरकार के पूरे प्रयास रहेंगे कि इंदौर की गेर यूनेस्को की सूची में शामिल हो जाए।


इंदौर की गेर में शामिल होने के बाद मुख्यमंत्री ने अपने सोशल मीडिया एकाउंट पर की गई पोस्ट में भी लिखा था कि इंदौर को सेल्यूट, ह्रदय से अभिनंदन। गेर के उल्लास और आनंद में डूबे पूरे राजवाड़ा में तिल रखने की जगह न बची हो और कोई किसी को सुन भी न सके वहां एक एम्बुलेंस के गुजरने पर एक क्षण में रास्ता खाली होता देख अपने इंदौरी भाई-बहनों के लिए प्यार और श्रद्धा बढ़ गई। दूसरी तरफ इस बार कलेक्टर आशीष सिंह ने कुछ पर्यटकों को भी यह गेर दिखाई, जिसकेे लिए छतों का निर्धारण भी किया गया था। वहीं अब अगले साल तीन से चार महीने पहले इसकी ब्रांडिंग शुरू कर दी जाएगी। इसके लिए गठित राज्य स्तरीय समिति की कल बैठक भी हुई। बैठक में जिला प्रशासन की ओर से इन्दौर की गैर को यूनेस्को की सांस्कृतिक विरासत की सूची में सम्मिलित करने के लिए भारत शासन नई दिल्ली को भेजे गए प्रस्ताव की संक्षिप्त जानकारी डॉ. मनोहर दास सोमानी ने दी। बैठक में समिति के संयोजक भालू मोढ़े, सदस्य गण जयन्त भिसे, अभ्यास मंडल के अध्यक्ष रामेश्वर गुप्ता, डॉ. राजीव शर्मा ने भी बैठक में विचार व्यक्त किए व आगामी वर्ष में गैर को प्रभावशील तरीके से आयोजित कर इसे विश्व स्तरीय बनाने पर सहमति दी। जिला स्तरीय समिति की सदस्य डॉ. नमिता काटजू ने गैर की ऐतिहासिक पृष्ठभूमि की जानकारी दी। अंत में सभी का आभार समिति के सदस्य जयन्त भिसे ने दिया। पद्मश्री भालू मोंढे ने कहा कि जिस तरह सफाई का जज्बा इंदौरियों ने दिखाया उसी तरह अब गेर को लेकर भी उसकी अलग पहचान बनाई जाना चाहिए और देसी-विदेशी पर्यटकों को आकर्षित करने के लिए ब्रांडिंग के साथ-साथ इससे जुड़ी अन्य गतिविधियों को भी अमल में लाया जाना जरूरी है। कमेटी के सुझावों को तैयार कर शासन को सौंपा जा रहा है।

Share:

Next Post

नियमों के मुताबिक हुई गिरफ्तारी, झारखंड हाईकोर्ट से हेमंत सोरेन को बड़ा झटका

Fri May 3 , 2024
रांची: झारखंड हाईकोर्ट से शुक्रवार को पूर्व मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन को राहत नहीं मिली. झारखंड हाईकोर्ट ने पूर्व मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन की ओर से दाखिल दो अलग-अलग याचिका पर अपना फैसला सुनाया. इसमें हेमंत सोरेन की ओर से गिरफ्तारी और ईडी रिमांड को चुनौती देने को लेकर क्रिमिनल रिट याचिका दाखिल की गई थी, जिसपर […]