व्‍यापार

Gold Silver Price Today: महंगा हुआ सोना, चांदी 72 हजार के पार, जानिए 10 ग्राम की कीमत

नई दिल्ली। आज घरेलू बाजार में सोने और चांदी की वायदा कीमत में तेजी आई। एमसीएक्स पर सोना वायदा 0.15 फीसदी बढ़कर 49,275 रुपये प्रति 10 ग्राम पर पहुंच गया। जबकि चांदी वायदा 0.5 फीसदी बढ़कर 72,357 रुपये प्रति किलोग्राम पर पहुंच गई। पिछले सप्ताह पांच माह के उच्च स्तर, 49,750 रुपये प्रति 10 ग्राम पर पहुंचने के बाद सोने में गिरावट आई है। पीली धातु पिछले साल के उच्चतम स्तर (56200 रुपये प्रति 10 ग्राम) से करीब सात हजार रुपये नीचे है।

कमजोर अमेरिकी डॉलर से अंतरराष्ट्रीय बाजार में हाजिर सोना 1,900 डॉलर प्रति औंस के करीब सपाट रहा। अन्य कीमती धातुओं में चांदी 0.5 फीसदी बढ़कर 28.10 डॉलर प्रति औंस पर थी और प्लैटिनम 1,151.47 डॉलर पर रहा।

स्वर्ण ईटीएफ सोने की कीमत पर आधारित होते हैं और उसके दाम में आने वाली घट-बढ़ पर ही इसका दाम भी घटता बढ़ता है। मालूम हो कि ईटीएफ का प्रवाह सोने में कमजोर निवेशक रुचि को दर्शाता है। एक मजबूत डॉलर अन्य मुद्राओं के धारकों के लिए सोने को अधिक महंगा बनाता है। भारत में, गोल्ड ईटीएफ में पिछले महीने 288 करोड़ रुपये का शुद्ध प्रवाह हुआ, जबकि अप्रैल में यह 680 करोड़ रुपये था। 

केंद्र ने स्वर्ण आभूषण और कलाकृतियों के लिए अनिवार्य रूप से हॉलमार्किंग व्यवस्था लागू करने की समयसीमा एक पखवाड़ा बढ़ाकर 15 जून तक कर दी। उपभोक्ता मामलों के मंत्री पीयूष गोयल की अध्यक्षता में हुई बैठक में इस आशय का निर्णय किया गया।

उल्लेखनीय है कि नवंबर 2019 में सरकार ने स्वर्ण आभूषण और कलाकृतियों पर ‘हॉलमार्किंग’ 15 जनवरी, 2021 से अनिवार्य किए जाने की घोषणा की थी। हालांकि जौहरियों की महामारी के कारण समयसीमा बढ़ाए जाने की मांग के बाद इसे चार महीने आगे खिसकाकर एक जून कर दिया गया था। गोल्ड हॉलमार्किंग कीमती धातु की शुद्धता को प्रमाणित करता है और वर्तमान में यह स्वैच्छिक है। बयान के अनुसार स्वर्ण आभूषण पर हॉलमार्किंग व्यवस्था 15 जून से शुरू होगी। पहले यह एक जून, 2021 से क्रियान्वित होनी थी।

Share:

Next Post

आदेश पर उठे सवाल, अब क्‍या मध्य प्रदेश में जाति के आधार पर बनेगी पुलिस कंपनी

Fri Jun 11 , 2021
भोपाल. मध्य प्रदेश पुलिस मुख्यालय (PHQ) का एक विवादित आदेश सामने आया है. इस आदेश में जाति के आधार पर पुलिस कंपनी का गठन करने की बात कही गई है. एसटी, एससी और महिलाओं के लिए अलग-अलग पुलिस कंपनी बनाई जाएगी. कंपनी बनाने के लिए मुख्यालय ने पुलिस अधीक्षकों और कमांडेंट से जानकारी मांगी है. […]