इंदौर न्यूज़ (Indore News)

इंदौर: हिदायत… नहीं सुधरा सिटी बसों का ढर्रा तो दो दिन बाद कार्रवाई

परसों एआईसीटीएसएल में ट्रैफिक एसीपी ने ली बैठक

इंदौर। परसों एआईसीटीएसएल (AICTSL) में फील्ड पर काम कर रहे कर्मचारियों (Employees) के साथ हर माह होने वाली बैठक में सिटी बसों (city buses) के संचालन पर ट्रैफिक एसीपी (traffic acp) सख्त हुए हैं। लगातार समझाइश और ट्रेनिंग (Training) के बाद भी मिल रही शिकायतों के बाद अब चालानी कार्रवाई करने की बात कही जा रही है।


बैठक में शहर के हर क्षेत्र में दौड़ रही सिटी बसों के अलावा इलेक्ट्रिक बसों और आई बसों के भी सुचारू यातायात पर चर्चा की गई। ट्रैफिक एसीपी (जोन 2) मनोज खत्री ने बताया कि बैठक में शामिल सभी निगरानी करने वालों को हिदायत दी गई है कि वे सिटी बस चालक-परिचालक से तमाम नियमों का पालन करवाएं। लगातार ये देखने में आ रहा था कि जनवरी में शहर के कई हिस्सों में सिटी बसों को तय स्टॉप पर रोकने के लिए यलो बॉक्स बनाए गए थे। सिटी बस के चालक-परिचालक इसमें बस न रोकते हुए बीच सडक़ पर कहीं भी सवारी बैठाने-उतारने का काम कर रहे हैं। इसके अलावा भी कई नियमों का पालन इनके द्वारा नहीं किया जा रहा है। देखा जा रहा है कि सिटी बसें बड़ी संख्या में रेड लाइट जम्प भी कर रही हैं। लगातार ये शिकायतें भी मिली हैं कि सिटी बस चालक देखते हैं कि सिग्नल लाइट यलो से रेड होने वाली है, तो बस की स्पीड बढ़ाकर लगातार हॉर्न बजाते हुए तेज गति से बस निकालते हैं, जिससे अन्य छोटे वाहन चालक घबरा जाते हैं। कई जगह से सवारियों के दरवाजे पर लटककर यात्रा करने की शिकायत भी मिल रही हैं। एसीपी खत्री के अनुसार, अगर दो दिन में सिटी बसें नियमों का पालन करती नजर नहीं आईं, तो यातायात पुलिस शहरभर में इन पर चालानी कार्रवाई शुरू करेगी। तीन दिन में फील्ड के कर्मचारियों को चालक-परिचालकों को जागरूक करने और नियमों का पालन करवाने के लिए कहा गया है।

Share:

Next Post

एआईसीटीएसएल अब इंटरसिटी रूट्स पर भी चलाएगा इलेक्ट्रिक बसें

Sat Jun 15 , 2024
10 से ज्यादा शहरों के बीच 26 बसें चलाने का टेंडर जारी किया इंदौर। इंदौर (Indore) में लोक परिवहन (Public Transport) की कमान संभालने वाला अटल इंदौर सिटी ट्रांसपोर्ट सर्विसेस लिमिटेड (AICTSL) अब जल्द ही इंदौर से प्रदेश (State) के अन्य शहरों (city) के लिए डीजल बसों (Diesel Buses) के बजाए इलेक्ट्रिक बसें (electric buses) […]