विदेश

सऊदी अरब के रेगिस्तान में भीषण बर्फबारी, टूटा 50 साल का रिकॉर्ड

रियाद। सऊदी अरब से अगर भीषण बर्फबारी की खबर आती है तो हर कोई हैरान रह जाता है। लोग सोचने को मजबूर हो जाते हैं कि आखिर रेगिस्तान और एक गर्म प्रदेश में यह कैसे संभव है। लेकिन अब हैरान होने की जरूरत नहीं है, क्योंकि हाल ही में सोशल मीडिया पर कई तस्वीरें और वीडियो साझा हो रहे हैं जिसमें यह बताया जा रहा है कि सऊदी में बर्फबारी हो रही है।

दरअसल सोशल मीडिया पर सामने आई तस्वीरों से सऊदी अरब में बर्फबारी को देखकर हर कोई आश्चर्य में है। इस वीडियो में देखा जा सकता है कि यहां बर्फबारी इतनी भीषण हुई है कि रेगिस्तान की रेत के साथ ही ऊंटों की पीठ पर बर्फ की सफेद चादर साफ देखी जा सकती है।

बताया जा रहा है कि लगभग 50 साल के बाद यह नजारा फिर से देखने को मिला है। हालांकि इससे पहले भी बर्फबारी हुई है लेकिन इतने बड़े पैमाने पर नहीं हुई थी। सऊदी अरब में हुई बर्फबारी पूरे खाड़ी देशों के लिए दुर्लभ घटना बताई जा रही है। बता दें कि एक सप्ताह पहले ही यहां बर्फीली सर्दी ने दस्तक दी है। तापमान माइनस 2 डिग्री तक पहुंच गया है। आवासीय क्षेत्र में लोगों के साथ जानवर भी इस भीषण बर्फबारी से काफी परेशान है।

इसी बीच मौसम विभाग ने बर्फबारी को लेकर चेतावनी भी जारी कर दी है। मौसम विभाग का कहना है कि आने वाले दिनों में ठंड कई गुना बढ़ सकती है। मौसम विभाग ने लोगों से घर में ही रहने की अपील की है। खासकर रात के समय लोगों को ज्यादा से ज्यादा गर्म कपड़े पहनकर रहने को कहा गया है।

अल्जिरिया में भी भारी बर्फबारी
दुनियाभर में जनवरी के दौरान बर्फ पड़ने लगती है, लेकिन अफ्रीका और मिडिल ईस्ट के रेगिस्तानों में अक्सर ऐसा नहीं होता, लेकिन इस बार सहारा रेगिस्तान स्थित अल्जीरिया में भी बर्फ की चादर बिछ गई है और सऊदी अरब में तापमान माइनस दो डिग्री पहुंच गया है। सहारा मरुस्थल में रेत पर बर्फ की चादर की तस्वीरें भी सोशल मीडिया पर काफी वायरल हो रही हैं। लोग इसे मौसम का अजब मिजाज करार दे रहे हैं।

Next Post

ट्रंप ने उत्‍तर कोरिया के शासक किम जोंग उन को की थी वायुसेना वन की सवारी की पेशकश

Tue Feb 23 , 2021
वाशिंगटन। उत्तर कोरिया के तानाशाही शासक किम जोंग उन को अमेरिका के तत्कालीन राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने एयरफोर्स-वन की सवारी की पोशकश की थी। बीबीसी की रिपोर्ट के अनुसार यह दो साल पहल हनोई में हुए शिखर सम्मेलन के बाद की बात है। आपको बता दें कि दोनों राष्ट्राध्यक्षों के बीच पहले काफी जुबानी जंग […]