खरी-खरी ब्‍लॉगर

शिवराज ने विश्वास के कालीन बिछाए, तो योगी ने उपेक्षा के कांटे चुभाए… इसलिए पलायन का बवंडर रोक नहीं पाए…

हठीले योगी…शिव की तरह अपना बनाते तो अपने हुए लोगों को यूं नहीं गंवाते… उत्तरप्रदेश में उठा पलायन का बवंडर उपेक्षा और अविश्वास की वो पीड़ा है, जो कई नेता योगी राज में बरसों से भोग रहे थे…जो भाजपाई थे, उनका रुदन तो दिल में आंसू बहाता रहा… अनुशासन के चलते दर्द जुबां पर न आ सका… अपनी घुटन की पीड़ा का अहसास करा नहीं सका… लेकिन जो लोग अपनी राजनीतिक जमीन के चलते भाजपा में आए थे… जिन्होंने अपने वजूद से भाजपा की दौड़ में जीत के पहिए लगाए थे… जो बरसों की निष्ठा छोडक़र शरण पाए थे, उनमें से तीन नेताओं ने तो मंत्री पद तक पाया… लेकिन पद उन्हें देकर भी राज मुख्यमंत्री योगी ने चलाया… उपेक्षा की पीड़ा का वो अहसास कराया कि मौका मिलते ही उन्होंने पलायन का रास्ता अपनाया… दरअसल योगी लोकतंत्र की निष्ठा, अपनों के लिए विनम्रता और सबको साथ लेकर चलने की प्रतिबद्धता को समझ नहीं पाए… स्वयं को सिद्ध करने की चेष्टा में दूसरों के प्रभुत्व को चोट पहुंचाने की शैली ने चुनाव के ऐनवक्त अनचाहा बवंडर खड़ा कर दिया… हालांकि जो गए वो कभी भाजपा के थे ही नहीं… लेकिन यदि वो भाजपा के हुए थे तो उन्हें अपना बनाने और अपनेपन का अहसास कराने की जिम्मेदारी भी मुख्यमंत्री योगी की थी… योगी ने भाजपा के प्रचंड बहुमत के मुखिया का किरदार तो निभाया, लेकिन अपने ही नेताओं को उस तरह अपनेपन का अहसास नहीं कराया, जिस तरह मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराजसिंह चौहान ने सिंधिया और उनके समर्थकों को गले लगाया… केंद्रीय नेताओं के किए वादे को दिल से निभाया… सम्मान के साथ अपनेपन का भी अहसास कराया… शब्दों से लेकर आचरण तक में विनम्रता की अनुभूति करते सिंधिया और उनके समर्थक शिवराज के इतने करीब आ गए हैं कि वो एक दल में एक दिल नजर आते हैं… यही विनम्रता यदि योगी दिखाते… वचन के वजूद को अपनाते… बराबरी का अहसास कराते… उपेक्षा और तिरस्कार की पीड़ा नहीं पहुंचाते तो पलायन का दर्द नहीं पाते… दरअसल शिवराज ने आने वालों के लिए जो विश्वास का कालीन बिछाया था उसमें योगी की निष्ठुरता ने कांटे बिछा दिए… भविष्य में आने वालों के रास्ते बंद करा दिए… विश्वास के कदम डगमगा दिए… मध्यप्रदेश ने जिन राहों को मजबूत बनाया, उत्तरप्रदेश ने उन्हीं राहों में चुभन का अहसास कराया…

Share:

Next Post

तेलंगाना के बुनकर ने बनाई ऐसी सिल्क की साड़ी जो माचिस के डिब्बे में हो जाती है फिट, देखें तस्वीरें

Fri Jan 14 , 2022
हैदराबाद। अपने असाधारण बुनाई कला का प्रदर्शन करते हुए, तेलंगाना (Telangana) के एक युवा बुनकर ने एक साड़ी बुना है जिसे माचिस की डिब्बी में रखा जा सकता है। जिले के राजन्ना सिरसिला (Rajanna Sircilla) निवासी नल्ला विजय (Nalla Vijay) नामक व्यक्ति ने रेशम (Silk) की साड़ी बुनी है। यह साड़ी हाथों से बुनने में […]

Leave a Reply

Your email address will not be published.