चुनाव 2024 बड़ी खबर

थम गया चुनाव प्रचार का शोर, PM मोदी ने की 158 रैलियां, राहुल गांधी ने 65, जानिए 75 दिन में किसने कितना लगाया जोर

नई दिल्ली: 75 दिन चला लोकसभा चुनाव अभियान (Lok Sabha election campaign lasted for 75 days) आज गुरुवार को थम गया है. बड़ी-बड़ी रैलियों, चुनावी सभाओं और रोड शो का समापन हो गया. आज प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Prime Minister Narendra Modi), राहुल गांधी (Rahul Gandhi), जेपी नड्डा (JP Nadda), योगी आदित्यनाथ और प्रियंका गांधी (Yogi Adityanath and Priyanka Gandhi) ने रैलियां कीं तो वहीं ममता बनर्जी ने कोलकाता में 8 किलोमीटर लंबी पदयात्रा की. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने पंजाब के होशियारपुर में अपनी आखिरी रैली की. यहां से पीएम मोदी कन्याकुमारी के लिए रवाना हो गए. यहां पीएम 45 घंटे तक ध्यान लगाएंगे. 1 जून दोपहर 3 बजे को वहां से पीएम रवाना होंगे. 1 जून को उनकी सीट वाराणसी समेत 8 राज्यों और चंडीगढ़ की 57 सीटों पर वोटिंग है. इस वजह से विपक्ष उनके ध्यान को आचार संहिता के खिलाफ बताकर विरोध कर रहा है.

सात चरणों वाले लंबे-चौड़े चुनावी कार्यक्रम के दौरान सभी पार्टियों के दिग्गजों ने खूब जो लगाया. इस दौरान पीएम मोदी ने 158 रैलियां और 14 रोड शो किए. अमित शाह ने 115 रैलियां और 18 रोड शो किए. जेपी नड्डा ने 87 रैलियां की. वहीं विपक्ष की बात करें तो राहुल गांधी ने 65 रैलियां और 7 रोड शो किए. अखिलेश यादव ने 69 रैलियां और 4 रोड शो किए, जबकि ममता बनर्जी ने 61 रैलियां और कई रोड शो और पदयात्राएं की हैं.

आखिरी चरण की वोटिंग होना भले ही बाकी हो. लेकिन INDIA गठबंधन को जीत का पूरा भरोसा है और उसकी तरफ से बयान आया है कि जीत के 48 घंटे के अंदर ही प्रधानमंत्री चुन लिया जाएगा. जयराम रमेश ने ये बात कही है. उन्होंने बताया कि सबसे ज्यादा सीट जीतने वाले दल का ही प्रधानमंत्री होगा. वहीं कांग्रेस अध्यक्ष मल्लिकार्जुन खड़गे ने भी 4 जून को लेकर बड़ा दावा किया है. उन्होंने दावा किया कि INDIA गठबंधन पूर्ण बहुमत की सरकार बनाएगा. ये सरकार समावेशी, राष्ट्रवादी और विकास के मुद्दे पर चलेगी. उन्होंने कहा कि 4 जून को वैकल्पिक सरकार का जनादेश आएगा.

उधर, चुनाव अभियान समापन के बाद बीजेपी अपने प्रदर्शन के आकलन में जुट गई है. बीजेपी अलाकमान ने देश भर से मिले फीडबैक के आधार पर उम्मीद है कि एक बार फिर मोदी सरकार बनने जा रही है. बीजेपी सूत्रों के मुताबिक पार्टी को कुछ राज्यों में 2019 की तुलना में बेहतर प्रदर्शन की उम्मीद है. इन राज्यों में ओडिशा, पश्चिम बंगाल, तमिलनाडु, केरल, तेलंगाना, आंध्र प्रदेश और उत्तर प्रदेश शामिल हैं. इन राज्यों में लोक सभा की 244 सीटें हैं. पिछले चुनाव में बीजेपी और उसके सहयोगियों को इनमें से 94 सीटों पर जीत मिली थी.

तमिलनाडु, केरल और आंध्र प्रदेश में बीजेपी पिछली बार खाता नहीं खोल सकी थी, जबकि इस बार पीएम मोदी ने वहां धुआंधार प्रचार किया है. बीजेपी ने इन राज्यों में क्षेत्रीय दलों से गठबंधन भी किया है. जबकि बीजेपी का आकलन है कि कुछ राज्यों में सहयोगी दलों को नुकसान उठाना पड़ सकता है. इन राज्यों में महाराष्ट्र और बिहार का नाम प्रमुखता से लिया जा रहा है. जबकि राजस्थान और कर्नाटक में 2019 की तुलना में बीजेपी की कुछ सीटें कम हो सकती हैं. कर्नाटक में बीजेपी ने पिछले बार 28 में से 25 सीटें जीतीं थीं और एक निर्दलीय सांसद का उसे साथ मिला था. जबकि महाराष्ट्र की 48 में से बीजेपी ने 25 सीटों पर चुनाव लड़ा था जिनमें से उसने 23 सीटें जीती थीं. बिहार में पिछली बार बीजेपी और उसके सहयोगियों ने 40 में से 39 सीटें जीती थीं. जहां बीजेपी को खुद अपना पिछला प्रदर्शन दोहराने की उम्मीद है, वहीं उसके नेताओं को लगता है कि सहयोगी दलों को कुछ सीटों पर नुकसान हो सकता है.

जनवरी में राम मंदिर के उद्घाटन के साथ बीजेपी का आत्मविश्वास चरम पर पहुंच गया. बीजेपी ने उद्घाटन कार्यक्रम में विपक्ष के बहिष्कार को मुद्दा बनाया. बाद में कई दूसरे दलों से नेता इसी को मुद्दा बना कर अपना पार्टियां छोड़ बीजेपी में आए. इससे बीजेपी को देश भर में राम मंदिर मुद्दे को सेंटर स्टेज पर लाने में मदद मिली. बीजेपी ने चुनाव अभियान मोदी की गारंटी से शुरू किया. पार्टी के घोषणापत्र में भी मोदी की गारंटी की बात प्रमुखता से कही गई. बीजेपी के तमाम नेता एनडीए के 400 पार जाने की बात उठाते रहे. सामाजिक रक्षा और गरीब कल्याण से जुड़े मुद्दों का विस्तार से रैलियों आदि में जिक्र किया गया. लेकिन फिर बीजेपी ने प्रचार अभियान की दिशा को मोड़ दिया.

पीएम मोदी ने वैल्थ रिडिस्ट्रीब्यूशन के कांग्रेस के वादे को बड़ा मुद्दा बनाया और कांग्रेस के घोषणापत्र की तुलना मुस्लिम लीग से कर दी. इसके बाद बीजेपी का चुनाव अभियान बेहद आक्रामक हो गया. सैम पित्रोदा के विरासत टैक्स के बयान ने बीजेपी को हावी होने का मौका दे दिया. पूर्व प्रधानमंत्री डॉ मनमोहन सिंह के पुराने बयान का पीएम मोदी ने बार-बार जिक्र किया जिसमें उन्होंने संसाधनों पर अल्पसंख्यकों के पहले हक की बात कही थी. पीएम मोदी ने कहा कि ये मां-बहनों का मंगलसूत्र भी नहीं बचने देंगे. उन्होंने पूछा कि क्या लोगों की मेहनत का पैसा घुसपैठियों को दिया जाएगा? विपक्ष के नेताओं ने कहना शुरू किया कि बीजेपी 400 पार की बात इसलिए कर रही है क्योंकि वह संविधान बदल कर दलित आदिवासियों का आरक्षण खत्म करना चाहती है.

बीजेपी ने इस पर पलटवार करते हुए मुस्लिम आरक्षण का मुद्दा उठाया और कहा कि किस तरह से शैक्षणिक संस्थानों को अल्पसंख्यक संस्थान घोषित कर वहां से एससी-एसटी आरक्षण खत्म करने की कोशिश हो रही है. इस बीच पश्चिम बंगाल में हाई कोर्ट का फैसला आया जिसमें मुस्लिम ओबीसी के आरक्षण को खत्म कर दिया गया. इसने भी बीजेपी को आक्रामक होने का मौका दिया. प्रचार अभियान समाप्त होते-होते शुरुआती मुद्दे गौण होते नजर आए. शुरुआती चरणों में कम मतदान ने भी बीजेपी को चौकन्ना कर दिया. इससे विपक्षी पार्टियों ने दावे करने शुरू कर दिए कि एनडीए बहुमत हासिल नहीं कर सकेगा. बहरहाल, अब जनता का फैसला ईवीएम में कैद हो चुका है. चार जून को पता चलेगा कि किसके दावे में कितना दम है.

Share:

Next Post

MP के ग्वालियर में आजादी के बाद पहली बार पड़ रही इतनी गर्मी, 24 घंटे में 5 लोगों की मौत

Thu May 30 , 2024
ग्वालियर: मध्यप्रदेश के ग्वालियर (Gwalior of Madhya Pradesh) में इन दिनों हाड़ जलाने वाली भीषण गर्मी पड़ रही है, नौतपा में ग्वालियर (Gwalior) इस कदर तप रहा है कि इंसान, पशु, पक्षी सबका जीना मुश्किल हो रहा है. गर्मी ने बीते कई दशकों के रिकॉर्ड तोड़ दिए है. मंगलवार को ग्वालियर में पारा 47.6 डिग्री […]