बड़ी खबर भोपाल मध्‍यप्रदेश

भोपालः कमला नेहरू अस्पताल के बच्चा वार्ड में आग की घटना अत्यंत दुखदः मुख्यमंत्री

भोपाल। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान (Chief Minister Shivraj Singh Chouhan) ने राजधानी भोपाल के कमला नेहरू अस्पताल (Kamala Nehru Hospital) के चाइल्ड वार्ड में सोमवार की रात आग लगने की घटना अत्यंत दुखद बताया है। उन्होंने ट्वीट के माध्यम से कहा है कि प्रशासन की टीम और बचाव कर्मी मौके पर हैं। घटना पर मेरी निरंतर नजर है। संबंधित अधिकारी निरंतर मेरे संपर्क में हैं। आपदा प्रबंधन के सारे उपाय किए जा रहे हैं।

मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि अस्पताल प्रबंधन को बच्चों की समुचित देखभाल के निर्देश दिए गए हैं। वार्ड में बचाव कार्य तेजी से जारी हैं। चिकित्सा शिक्षा मंत्री विश्वास सारंग मौके पर उपस्थित रहकर बचाव कार्य की मॉनिटरिंग कर रहे हैं।

जानकारी के मुताबिक, हमीदिया अस्पताल परिसर में स्थित कमला नेहरू अस्पताल की तीसरी मंजिल पर स्थित बच्चों के वार्ड में सोमवार रात 9:00 बजे भीषण आग लग गई। सूचना मिलने पर दमकल का गाड़ियां मौके पर पहुंची और राहत एवं बचाव कार्य में जुट गई। बताया जा रहा है कि कड़ी मशक्कत के बाद आग पर काबू पा लिया गया है। आगजनी के दौरान वार्ड में करीब 45 बच्चे भर्ती थे, जिन्हें निकालकर अन्य स्थान पर भेजा गया। आग लगने से इलाके में खासा धुआं भी फैल गया था, जिसके चलते परिजनों को अस्पताल में अंदर नहीं जाने दिया जा रहा है। आग लगने के दौरान बड़ी संख्या में बच्चों के परिजन अस्तपाल के बाहर जमा हो गए हैं। सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार, इस हादसे में कुछ बच्च बुरी तरह झुलस गए हैं और वार्ड की स्टाफ नर्सें भी आगजनी में प्रभावित हैं।

जानकारी मिली है कि आगजनी के दौरान अस्पताल के बच्चा वार्ड में धुआं फैल गया, जिससे बच्चों को सांस लेने में तकलीफ होने लगी। वार्ड में भर्ती बच्चों को आनन-फानन में दूसरी जगह शिफ्ट किया गया। जानकारी मिलते ही नगर निगम के अमले के साथ ही पुलिस प्रशासन के अधिकारी मौके पर पहुंच गए। चिकित्सा शिक्षा मंत्री विश्वास सारंग भी मौके पर मौजूद हैं। बच्चों से उनके परिजनों को मिलने नहीं दिया जा रहा है, जिससे परिजनों में आक्रोश है। वे बच्चों से मिलवाने की जिद पर अड़े हुए हैं। उनका कहना है कि बच्चे जैसे भी स्थिति में हो, उनसे मिलवाया जाए। अस्पताल प्रबंधन और पुलिस प्रशासन परिजनों को तसल्ली दे रहे हैं कि अंदर भर्ती बच्चे पूरी तरह सुरक्षित हैं और किसी को किसी तरह की कोई दिक्कत नहीं है। चिकित्सा शिक्षा मंत्री विश्वास सारंग ने बच्चों के परिजनों को भरोसा दिया है कि प्रभावित बच्चों के इलाज में जो भी खर्चा होगा सरकार उसे बहन करेगी। (एजेंसी, हि.स.)

Share:

Next Post

demonetisation के 5 साल बाद कैश और डिजिटल ट्रांजैक्शन में हुआ ये बदलाव

Tue Nov 9 , 2021
– बाजार में तब 17.74 लाख करोड़ के नोट थे, बढ़कर 29.17 लाख करोड़ के हुए नई दिल्ली। नोटबंदी (demonetisation) के पांच साल (five years) पूरा होने के बाद भारतीय अर्थव्यवस्था (indian economy) में नकदी (cash) का बोलबाला फिर कायम होने लगा है। डिजिटल भुगतान (digital payment) में बढ़ोतरी के बावजूद चलन में नोटों की […]