देश

गांव में अचानक पहुंचे खंडवा सांसद, अपने हाथों से एक समर्थक को पहनाए जूते, यह है पूरा मामला

बुरहानपुर। एक गांव में अचानक सांसद (Member of parliament) की कार पहुंची तो भीड़ जुटने लगी और उसके बाद जो दृश्य सबने देखा, सभी ताले बजाने से खुद को रोक नहीं पाए. सुदामा के घर श्रीकृष्ण(Sri Krishna) के आने जैसा भाव सभी के मन में तब जागा, जब एक सांसद ने अपने हाथों से एक समर्थक को जूते पहनाए. इससे पहले सांसद ज्ञानेश्वर पाटिल (Dnyaneshwar Patil) ने इस समर्थक को माला पहनाकर सत्कार भी किया और पार्टी के प्रति उसकी निष्ठा की तारीफ भी की. सांसद ने कहा जैसे ही उन्होंने अपने समर्थक की प्रतिज्ञा के बारे में सुना, वह खुद को ऐसा करने से रोक नहीं पाए.

नेपानगर के सातपायरी (Satapari of Nepanagar) के नावथा टंकी क्षेत्र के गांव में शुक्रवार को अचानक एक कार आई और उसमें से खंडवा के सांसद ज्ञानेश्वर पाटिल उतरे. उन्होंने अपने हाथों में गेंदे के फूलों वाली माला ली हुई थी. कार से उतरकर यह माला उन्होंने अपने समर्थक मुन्ना तेनसिंह डावर (Munna Tensingh Davar) के गले में डाल दी. इसके बाद कार में से नए जूतों की जोड़ी निकलवाई और मुन्ना को बैठाकर अपने हाथों से जूते पहना दिए. यह दृश्य देखकर वहां मौजूद गांव के लोगों ने रोमांचित होकर तालियां बजानी शुरू कर दीं.



मुन्ना ने ली थी अनोखी प्रतिज्ञा
दरअसल भाजपा कार्यकर्ता मुन्ना ने खंडवा लोकसभा(Khandwa Lok Sabha) उपचुनाव के दौरान प्रतिज्ञा ली थी कि जब तक भाजपा प्रत्याशी ज्ञानेश्वर पाटील चुनाव जीत नहीं जाएंगे, तब तक वह पैरों में चप्पल, जूते नहीं पहनेंगे. उन्होंने यह भी कसम खाई थी कि सांसद के हाथों से ही जूते पहनेंगे. तबसे मुन्ना नंगे पैर रहने लगे थे. खेतों के कामकाज करना हो, कहीं भी आना-जाना हो उन्होंने बिना चप्पल जूतों के ही लंबा समय बिताया.

सरपंच ने सांसद तक पहुंचाई बात
पाटील की जीत के बाद भी मुन्ना नंगे पैर ही घूमते रहे. मुन्ना का कहना है ‘मेरी मन्नत पूरी हो गई लेकिन मैंने इस बारे में किसी को नहीं बताया. ’नंगे पैर रहने की बात जब गांव सरपंच को पता लगी, तो उन्होंने इसकी जानकारी पाटील को दी. सांसद को यह बात पता लगने पर उन्होंने मार्केट से जूते खरीदे और अपनी कार से मुन्ना के गांव पहुंचे. उसके बाद सबने देखा कि निष्ठा का सम्मान कैसे हुआ.

सांसद की कार जैसे ही गांव पहुंची, ग्रामीणों की भीड़ जुटना शुरू हो गई. मुन्ना के सम्मान के बाद लोगों ने सांसद को अपनी समस्याएं भी बताईं. पाटील ने कहा ‘पार्टी के प्रति कार्यकर्ता की इस प्रतिज्ञा और त्याग को शब्दों में बयां नहीं किया जा सकता. मुझे जैसे ही इसकी जानकारी लगी तो खुद को रोक नहीं पाया और यहां चला आया. मैं पार्टी के प्रति मुन्ना की निष्ठा और समर्पण को सलाम करता हूं.’

Share:

Next Post

रतलाम में दूध के दाम को लेकर उत्पादकों व विक्रेता आमने-सामने, दी हड़ताल की चेतावनी!

Sun Sep 25 , 2022
रतलाम. मध्यप्रदेश (Madhya Pradesh) के रतलाम (Ratlam) जिले में खुले दूध के दाम बढ़ाने को लेकर दूध उत्पादकों व दूध विक्रेताओं में आमने-सामने की स्थिति निर्मित हो गई है. पशुपालकों का कहना है कि 55 रुपए से कम में वे व्यापारियों को दूध नहीं देंगे. फिलहाल दूध विक्रेता व्यापारी 49 रुपए लीटर में पशुपालकों(pastoralists) से […]