देश

हिमाचल प्रदेश में कोरोना संक्रमित पांच मजदूरों को पब्लिक टायलेट किया आइसोलेट

चंबा। हिमाचल प्रदेश(Himachal Pradesh) के जनजातीय क्षेत्र(Tribal areas) पांगी (Pangi) में ठेकेदार द्वारा कार्य करने के लिए प्रदेश और अन्य प्रदेशों से मजदूरों को ला रहे हैं. हाल ही में ठेकेदार द्वारा 20 मजदूरों को लाया गया था. उनका कोरोना टेस्ट(Corona Test) करने पर पांच लोग कोरोना पॉजिटिव (5 Corona Positive) आए हैं. उनके साथ आए पंद्रह लोगों की रिपोर्ट नेगटिव आई. लेकिन कोरोना पॉजिटिव (Corona Positive)आए लोगों को बस स्टैंड के पास सुलभ शौचालय (Public Toilet) में ही आइसोलेट(Isolate) कर दिया गया. इसकी जानकारी जैसे ही लोगों को लगी तो उन्हें बस स्टैण्ड की ओर जाने में ही खतरा महसूस होने लगे.


लोगों को बस स्टैंड के तरफ जाना अपने आप मे खतरा महसूस कर रहे हैं. स्थानीय लोगों का कहना है हिंदुस्तान के हालात इतने खराब तो नहीं है कि मजदूरों को सुलभ शौचालय में इसोलेट करना पड़ रहा है. पांगी प्रशासन को मालूम था कि पांच मजदूर पॉजिटिव आये हैं, फिर क्यों उन्हें सुलभ शौचालय में आइसोलेट किया गया. जोकि बस स्टैंड के साथ हैं. जहां पर आम आदमी का आना-जाना रहता है. हिमाचल पथ परिवाहन निगम के कर्मचारियों का निवास भी बसस्टैंड में रहते हैं. उन्हें भी डर है कि वह वायरस की जद में न आ जाएं. बसों में लोगों का आना- जाना रहता है .
चालक परिचालकों ने पांगी के तमाम रूटों पर आना जाना है. ऐसे में कहीं कोरोना वायरस फैल सकता है. जिससे समस्त पांगी इसके चपेट में आ सकते हैं. हलांकि जैसे ही मीडिया के लोग वहां पहुंचे तो प्रशासन के पहुंचने से पहले ही उन सभी लोगों को वहां से हटा दिया गया था. ठेकेदार की लेबर कोरोना पॉजिटिव आने की बात की जा रही है. ठेकेदार के 20 मजदूरों में से पांच पॉजिटिव आए हैं . उनको सुलभ शौचालय में रखा गया है. ठेकेदार ने किसके कहने पर उन्हें सुलभ शौचालय में बैठाया. क्या ठेकेदार को प्रशासन ने इजाजत दी. यह बड़ा सवाल है. बाकी के लोगों को बस स्टैंड में रखा गया है. यह लोग आपस मे मिल रहे हैं. ऐसे में बसस्टैंड में आने वाली सवारियों के लिए भी खतरा है.

Next Post

दिल्ली सरकार कोरोना संक्रमित निर्माण श्रमिकों की करेगी आर्थ‍िक मदद

Wed Apr 28 , 2021
नयी दिल्ली । दिल्ली सरकार (Government of Delhi) ने कोरोना वायरस (corona virus) के दौरान संक्रमित हुए पंजीकृत निर्माण श्रमिकों (Registered construction workers) और उनके परिजनों को चिकित्सकीय सहायता (Medical assistance) के रूप में पांच हज़ार से 10 हज़ार रुपये (Five thousand to 10 Thousand rupees ) की सहायता राशि दी जाएगी। दिल्ली सरकार के […]